Puja Anusthan

हमारे सनातन धर्म में पूजा-पाठ व अनुष्ठानों का अत्यन्त महत्त्वपूर्ण स्थान है। चाहे व्रत हो, व्रत-उद्यापन हो, तीज-त्योहार की पूजा हो या अन्य कोई अनुष्ठान हो। इन्हें सम्पन्न कराने के लिए कर्मकाण्डी ब्राह्मणों की आवश्यकता होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि पूजा-पाठ व अनुष्ठानों को किन ब्राह्मणों से सम्पन्न कराया जाना चाहिए। शास्त्रों में इसका स्पष्ट निर्देश हमें मिलता है।

‘काम क्रोध विहीनश्च पाखण्ड स्पर्श वर्जित:।
जितेन्द्रीय: सत्यवादी च सर्व कर्म प्रशस्यते॥’

अर्थात्- जो विप्र काम, क्रोध से निर्लिप्त हो। पाखण्ड ने जिसे स्पर्श तक ना किया हो। जो जितेन्द्रीय और जो सत्यवादी हो, यह शास्त्र की पहली शर्त है। इसके अतिरिक्त पूजा-पाठ व अनुष्ठान कराने वाले विप्रों का उच्चारण शुद्ध हो तथा वे मन्त्रों व श्लोकों के अर्थ से भलीभांति परिचित हों। शास्त्रानुसार ऐसे ही ब्राह्मणों से पूजा-पाठ व अनुष्ठान कराना श्रेयस्कर होता है।

  • अपनी कुंडली की सहायता से, आप आसानी से अपने भविष्य की भविष्यवाणी कर सकते हैं।
  • आपकी कुंडली के अनुसार, आप सबसे उपयुक्त कैरियर विकल्प का अनुमान कर सकते हैं। यह आपके व्यक्तित्व लक्षण और संकेतों पर निर्भर करता है।
  • कुंडली आपको अपने व्यक्तित्व लक्षण, रिश्ते, कैरियर, वित्त और जीवन के अन्य पहलुओं के बारे में विस्तृत जानकारी दे सकती है।
  • कुंडली की मदद से आप अपने भाग्यशाली रत्न, भाग्यशाली रंग और भाग्यशाली संख्या का अनुमान लगा सकते हैं।
  • आप अपने भविष्य के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, समस्याओं की गहराई को कम करने के लिए उपाय और समाधान भी पा सकते हैं।
  • कुंडली जीवन में अनुकूल और प्रतिकूल समय की जानकारी भी प्रदान करती है।
  • आप जीवन में अपनी ताकत और कमजोरियों को भी जान सकते हैं। अतः आप अंततः एक बेहतर व्यक्ति बन सकते हैं।
  • कुंडली आपको भविष्य में बीमारियों और विपत्तियों के बारे में भी बताती है और सचेत करती है।

                       निःशुल्क अपनी जन्म कुंडली की जाँच करें ।